Unity in Diversity in India | भारत में अनेकता में एकता

Unity in Diversity in India

                                                                   Unity in Diversity Essay in Hindi

भारत दुनिया का एकमात्र देश है, जहां सभी धर्मों, जातियों को अलगअलग भाषा, अलगअलग संस्कृति, अलगअलग देवी देवताओं की पूजा इत्यादि को समान मान्यता प्रदान की गई है। ये बड़े पैमाने पर एक राष्ट्र है, यही कारण है कि हम कहते हैं हमारे पास “अनेकता में एकता (Unity in Diversity)” है

Unity in Diversity in India का अर्थ विविधता में एकता शब्द विविधता की विशाल उपस्थिति के बाद भी एकता की स्थिति को दर्शाता है

Unity in Diversity in India हमें क्या सिखाती है

विविधता (Diversity) हमें सिखाती है, कि हम सभी धर्मों के मतभेदों को अलग रखने की जरूरत नहीं है हम सब एक दूसरे का बिना भेदभाव के समर्थन करें, और अपने समाज लक्ष्य के लिए मिलकर काम करें

विविधता (Diversity) शब्द से हमें सबक लेना चाहिए, विविधता हमें दयालु और प्रेम पूर्ण तरीके के साथ रहना सिखाता है विविधता के सिद्धांत हमें यह सिखाता है, कि मूल रूप से हम सभी एक दूसरे के समान है और हमारे सभी अधिकार समान हैं

 

Read : Concept : Self Help Groups | स्वयं सहायता समूह

Read : औद्योगिक क्रांति ( Industrial revolution ) किया है?

Read : World History : 18 वीं शताब्दी से औद्योगिक क्रांति

 

क्या भारत क धर्मों के पुनः संघ का स्थान हैं

भारत में धर्म के संबंध में यहां पर दुनिया के अनेक धर्मों और भाषाओं का पुनर्मिलन हुआ है, फिर भी भारत में विभिन्न संस्कृतियों के लोग शांतिपूर्ण ढंग से जीवन जी रहे हैं यहाँ हिंदू, मुस्लिम, सिख, इसाई, यहूदियों, बौद्ध, जैन और परसीओ सब एक दूसरे के समान है भारत के सभी महान उत्सव और धार्मिक उत्सव बड़े ही धूमधाम से मनाए जाते हैं

विविध भाषाओं और भारत में एकता

भारत में 200 से अधिक भाषाएं बोली जाती हैं यह प्रत्येक क्षेत्र की अपनी भाषा है, स्थानीय लोग अपनी भाषा में बोलते हैं

उत्तर भारत हिंदी

दक्षिण भारत तमिल मलयालम तेलुगु कन्नड़ आदि

पश्चिम बंगाल बंगाली

उड़ीसा उड़िया

अन्य आदिवासी भाषा

इस तथ्य के बावजूद की विभिन्न जातियों में कई भाषाएं हैं, सभी भारतीयों में राष्ट्रीय एकता और एकता का भाग है यह देश भक्ति की भावना है, जो हमें एक राष्ट्र के रूप में बांधता है

अविभाजित भारत की अवधारणा

प्राचीन भारत समय से बहुत से राजा अविभाजित भारत के आदर्श से प्रेरित थे, चंद्रगुप्त मौर्य ने प्राचीन काल में एक राष्ट्र बनाने की कोशिश की थी, इसलिए प्राचीन भारत को भारतवर्ष के नाम से भी जाना जाता है

आधुनिक भारत आधुनिक भारत में सब मिलकर राष्ट्रीय त्योहारों का जश्न मनाते हैं, जैसे की स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस और गांधी जयंती राष्ट्रीय त्योहारों के द्वारा प्रदर्शित होने वाली एकता भारत के चरित्र को प्रदर्षित करती है

विभिन्न संस्कृतियों के बीच एकता की भावना

भारत में सभी जाति एवं धर्म अपनी संस्कृति और रीति रिवाजों में उनकी एकता की भावना होती है, इससे भारत में विविधता में एकता का एक संदेश जीवित रहता है

भारत में हिंदू मुस्लिम एकता

माना कि हिंदू और मुस्लिम के रीतिरिवाजों में मतभेद है, लेकिन वह इसी राष्ट्र की मिट्टी पर पैदा हुए हैं पलेबढ़े हैं वह हिंदू मुस्लिम एक दूसरे को सम्मान करते हैं हिंदू अपने मुस्लिम मित्र को ईद, मोहर्रम की शुभकामनाएं देता है उसी तरह मुस्लिम अपने हिंदू मित्रों को दीपावली, होली आदि पर शुभकामनाएं देते हैं यह मामला हिंदू और मुस्लिम में एकता का प्रतीक है

निष्कर्ष

भारत एक राष्ट्र एक राज्य की बोली जाने वाली भाषा दूसरे राज्य से काफी अलग है, विभिन्न धार्मिक त्योहार हैं इन सब से यह निष्कर्ष निकलता है, कि भारतीयों को उनके बीच एकता और एकता की भावना महसूस होती है इसी प्रकार तभी तो हम कहते हैं, कि “भारत विविधता में एकता”(Unity in Diversity in India) का देश है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: