Neolithic Age

नवपाषाण युग (Neolithic Age) : प्राचीन भारत का इतिहास

नवपाषाण युग (Neolithic Age) पाषाण युग का अंतिम एंव तीसरा था, ये मध्य पाषाण युग के बाद शुरु हुआ।  नवपाषाण युग में मनुष्य के जीवन में बहुत से परिवर्तन आए, यही वह युग था जिसमें मनुष्य को भोजन का उत्पादन अर्थात कृषि की समझ हो गई थी। नवपाषाण युग (Neolithic Age) में मनुष्य ने अपने…

Mesolithic Age

मध्यपाषाण काल (Mesolithic Age) : प्राचीन भारत का इतिहास

मध्य पाषाण काल (Mesolithic Age) पाषाण काल का दूसरा भाग है, भारत में, यह 9,000 ईसा पूर्व से फैला था। पुरापाषाण काल लगभग एक लाख वर्ष तक रहा, उसके बाद मध्यपाषाण या मेसोलिथिक युग (Mesolithic Age) की शुरुआत हुई। जैसे – जैसे युग बदला इसके साथ कई परिवर्तन हुए, जिससे यहां के लोगो की जीवनशैली…

Paleolithic Age

पुरापाषाण काल (Paleolithic Age) : भारतीय प्राचीन इतिहास

आज के इस लेख में हम आपको पुरापाषाण (Paleolithic Age) के वारे में Hindi में बताने जा रहे हैं। जैसा कि आप जानते है कि पुरातत्त्वविदों ने पाषाण युग को इन तीन भागों में बाँटा है लेकिन आज हम सिर्फ इसके पुरापाषाण (Paleolithic Age) के बारे में समझेंगे। आपको पता है आज जो हम पढने…

Green House Effect in Hindi

ग्रीन हाउस प्रभाव क्या है । Green House Effect in Hindi

Green House Effect in Hindi :-आज हम जिस समस्या का सामना कर रहे हैं, उसकी वजह मानव गतिविधियां ही हैं। विशेष रूप से जीवाश्म ईंधन जैसे – कोयला, तेल और प्राकृतिक गैस आदि इसके अलावा पेड़ों को काटना ग्रीन हाउस गैसों की सांद्रता को बढ़ा रहा है। ग्रीन हाउस प्रभाव क्या है । Green House…

Unity in Diversity in India

Unity in Diversity in India | भारत में अनेकता में एकता

भारत दुनिया का एकमात्र देश है, जहां सभी धर्मों, जातियों को अलग-अलग भाषा, अलग-अलग संस्कृति, अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा इत्यादि को समान मान्यता प्रदान की गई है। ये बड़े पैमाने पर एक राष्ट्र है, यही कारण है कि हम कहते हैं हमारे पास “अनेकता में एकता (Unity in Diversity)” है। Unity in Diversity in…

Global Warming in Hindi

ग्लोबल वार्मिंग क्या है ?। What is Global Warming in Hindi 

ग्लोबल वार्मिंग (Global Warming ) या वैश्विक तापमान बढ़ने का मतलब है कि पृथ्वी का तापमान लगातार बढ़ता जा रहा है। इस विषय में वैज्ञानिकों का कहना है कि ग्लोबल वॉर्मिंग बढ़ने से आने वाले दिनों में सूखा, बाढ़ और मौसम संबंधित घटनाओं का रूप बदलता हुआ नजर आएगा। ग्लोबल वार्मिंग क्या है ?। What…