PCS in Hindi : राज्य लोक सेवा आयोग : एक परिचय

 
PCS in Hindi
                           
PCS Kiya Hota Hai : आज हम जानते है कि PCS in Hindi (Public Service Commission) किया है इसकी प्रकृति क्या है भारतीय संविधान के अनुच्छेद 315(1) के अनुसार संघ लोक सेवा आयोग के साथ-साथ प्रत्येक राज्य में राज्य आधारित, अर्ध्द-सरकारी, न्यायिक एंव अधीनस्थ सेवाओ के आयोजन के लिए PSC (राज्य लोक सेवा आयोग) की स्थापना की गई। PCS in Hindi में उत्तीर्ण होने वाले अभ्यर्थि राज्य विशेष के प्रशासन के अंग होते है जिनकी नियुक्ति उस राज्य विशेष में जिला, प्रख़ंड व तहसील स्तर पर की जाती है

PCS in Hindi परिक्षा में सम्मिलित होने के लिए योग्यता

  • राज्य लोक सेवा आयोग में किसी भी राज्य के अभ्यर्थि सम्मिलित हो सकते है।
  • इस परिक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थि की न्युनतम आयु 21 बर्ष ( कुछ पदो के लिए 18 बर्ष ) तथा अधिकतम आयु भिन्न राज्य लोक सेवा आयोगों द्वारा ( कुछ आरछित वर्गो को छोडकर ) सामान्यत: 35 – 40 बर्ष निर्धारित की गई है।
  • इस परिक्षा में सम्मिलित होने के लिए स्नातक होना अनिवार्य है।
  • राज्य लोक सेवा आयोगों द्वारा पी.सी.एस परिक्षा में कुछ विशेष पदों ( पुलिस उपाधीक्षक, अधीक्षक कारागार इत्यादि ) के लिए शारीरिक माप ( 165 – 167 सेमी. ) की लम्बाई तथा कुछ विशेष पदो ( संख्यिकीय अधिकारी, बेसिक शिक्षा अधिकारी, लेखाधिकारी इत्यादि ) के लिए विशेष शैक्षणिक योग्यता का निर्धारण किया गया है।
  • विभिन्न राज्यो की पी.सी.एस परिक्षाओं की प्रकृति में बदलाव है जैसे – राजस्थान, उत्तराखंड एं छ्त्तीसगढ में प्रारांभिक परिक्षा में Negative Marking का प्रावधान है जबकी अन्य राज्यों में नही है। ऐसे ही उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, उत्तराखण्ड और छ्त्तीसगढ में प्रारांभिक परिक्षा में दो पेपर होते है जिनका दूसरा पेपर CSAT का होता है झारखंड में दूसरा पेपर के रूप में “झारखंड का सामान्य ज्ञान” पूछा जाता है, जबकि बिहार और राजस्थान में प्रारांभिक परिक्षा में एक ही प्रश्नपत्र (सामान्य अध्ययन ) होता है।
  • प्रश्नो की प्रकृति एवं प्रक्रिया में थोडा बहुत होने के वावजूद “सिविल सेवा परिक्षा” की तैयारी कर रहे पी.सी.एस परिक्षा में अभ्यर्थि सफल होने के संभावना बढ जाती है।
  • पी.सी.एस परिक्षा की एक अन्य शर्त – तथ्यों पर मजबूत पकड, जबकि सिविल सेवा परिक्षा में तथ्यों के साथ – साथ विश्लेणात्मक क्षमता की भी आवश्यकता होती है।

MPPSC Exam Pattern in Hindi 2018 : प्रकृति एवं प्रक्रिया

RAS Exam Pattern in Hindi 2018 : प्रकृति एवं प्रक्रिया

 

PCS/PSC परिक्षा में सफल होने के लिए रणनीति

  • किसी भी परिक्षा में सम्मिलित होने से पहले उसकी प्रकृति एवं प्रक्रिया को समझना अति आवश्यक है। कुछ लोग परिक्षा की प्रवृति को समझने विना दिन रात मेहनत करते है और अंत में उन्हे निराशा ही हाथ लगती है
  • Public Service Commission परिक्षा के नवीनतम पैटर्न को ध्यान में रख कर उचित रणनीति से तैयारी करे।
  • अभ्यर्थि की सुबिधा के लिए इस वेवसाईट पर, सामान्य अध्ययन के लिये आवश्यक अध्ययन सामग्री के रूप में कक्षा-6 से कक्षा-12 तक की NCERT की सभी विषयों की पुस्तकें उपलब्ध है।
  • साथ ही, समसामयिक घटनाक्रम के लिए रोज अखवार पढने की आदत ढाले।

PCS in Hindi Post से संबधित किसी भी सबाल के लिए हमें Comment करे।

11 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *