India Budget 2018 : जानिए इससे आम जनता को क्या लाभ मिलेंगा?

India Budget

India Budget (बजट) एक निश्चित अवधि के लिए एक वित्तीय योजना है, आमतौर पर एक वर्ष इसमें नियोजित बिक्री की मात्रा और राजस्व, संसाधन मात्रा, लागत और व्यय, संपत्ति, देयताएं और नकदी प्रवाह शामिल हो सकते हैं। कंपनियां, सरकारों, परिवारों और अन्य संगठनों ने इसे मापने योग्य कार्यकलापों या घटनाओं की सामरिक योजनाओं को व्यक्त करने के लिए इसका इस्तेमाल किया।

एक India Budget एक विशेष उद्देश्य के लिए आवंटित धन की राशि और इच्छित व्ययों का सारांश है और उनसे मिलने के तरीके के प्रस्ताव शामिल हैं। इसमें एक बजट (Budget) अधिशेष शामिल हो सकता है, भविष्य में उपयोग के लिए धन उपलब्ध कराना, या एक घाटा जिसमें व्यय से आय अधिक हो।

India Budget 2018 

आयकर छूट की सीमा में कोई बदलाव नहीं

-वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए 40 हज़ार रुपये का स्टैंडर्ड डिडक्शन यानी जितना वेतन है उसमें से 40 हज़ार रुपये घटाकर जो रकम बचेगी उस पर टैक्स लगेगा.

 

  • -शॉर्ट टर्म कैपिटल गैन टैक्स 15 प्रतिशत जारी रहेगा
  • – एक लाख रुपये से अधिक के निवेश पर 10 प्रतिशत कैपिटल गेन टैक्स
  • -वरिष्ठ नागरिकों के लिए मेडिक्लेम 50 हज़ार
  • -स्वास्थ्य और शिक्षा सेस अब बढ़कर 4 प्रतिशत हुआ
  • -1.89 करोड़ कर्मचारियों ने 1.44 करोड़ रुपये का आयकर दिया.
  • -250 करोड़ रुपये तक के कारोबार वाली कंपनियों के लिए 25 प्रतिशत टैक्स
  • -2018-19 में वित्तीय घाटा जीडीपी का 3.3 प्रतिशत रखने का लक्ष्य
  • -मौजूदा वित्तीय वर्ष में वित्तीय घाटा 3.5 प्रतिशत रहने का अनुमान
  • -डायरेक्ट टैक्स वसूली 12.6 प्रतिशत बढ़ी
  • -85 लाख 51 हज़ार नए करदाता जुड़े
  • -राष्ट्रपति की तनख्वाह पाँच लाख होगी, उपराष्ट्रपति की चार लाख रुपये और राज्यपाल की तनख्वाह साढ़े तीन लाख होगी.
  • -सांसदों का वेतन भी बढ़ेगा और हर पांच साल में सांसदों के भत्ते की समीक्षा होगी.
  • -2018-19 में विनिवेश से 80 हज़ार करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य
  • -दो बड़ी बीमा कंपनियां शेयर बाज़ार में लिस्ट होंगी

क्या महंगा, क्या सस्ता?

मोबाइल, टीवी उपकरणों पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाई- मोबाइल, टीवी महंगे होंगे

#रेलवे

  • रेलवे के विस्तार पर 1.48 लाख करोड़ रुपये खर्च होंगे
  • मुंबई रेल नेटवर्क के लिए 11,000 करोड़ रुपये
  • बैंग्लुरू मेट्रो नेटवर्क के लिए 17,000 करोड़ रुपये
  • बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए वडोदरा में संस्थान बनेगा

#रोजगार

  • मुद्रा योजना के लिए तीन लाख करोड़ रुपये
  • नए कर्मचारियों के लिए ईपीएफ में 12 फ़ीसदी योगदान सरकार करेगी
  • महिलाओं के लिए शुरुआती तीन सालों के लिए ईपीएफ़ योगदान घटाकर 8 फ़ीसदी
  • 70 लाख नई नौकरियां बनाने का लक्ष्य
  • टेक्सटाइल सेक्टर के लिए बजट बढ़ाया, 7148 करोड़ रुपये का आवंटन
  • स्वच्छ भारत मिशन के तहत छह करोड़ से अधिक शौचालयों का निर्माण
  • 2018-19 में दो करोड़ नए शौचालय बनाने का लक्ष्य
  • 8 गरोड़ गरीब परिवारों को मुफ्त गैस कनेक्शन
  • ग्रामीण क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे के लिए 14.34 लाख करोड़ रुपये
  • इफ्रांस्ट्रक्चर के लिए 50 लाख करोड़ रुपये की ज़रूरत

#स्वास्थ्य

  • नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम के तहत 10 करोड़ गरीब परिवारों को 5 लाख रुपये तक का हेल्थ बीमा.
  • करीब 50 करोड़ लोगों को हेल्थ बीमा की सुविधा मिलेगी.
  • टीबी मरीजों के लिए 600 करोड़ रुपये की स्कीम
  • 24 नए मेडिकल कॉलेज खोले जाने का प्रस्ताव

#ग्रामीण #अर्थव्यवस्था

  • 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य. कम लागत में अधिक फसल उगाने पर ज़ोर, किसानों को उनकी उपज का अधिक दाम दिलाने पर फोकस
  • कृषि उत्पादन रिकॉर्ड स्तर पर. 275 मिलियन टन खाद्यान्न का उत्पादन हुआ.
  • उपज पर लागत से डेढ़ गुना अधिक दाम मिले, इस पर फोकस.
  • किसानों को उनके लागत का डेढ़ गुना देंगे
  • खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य लागत का डेढ़ गुना है.
  • 2000 करोड़ रुपये की लागत से कृषि बाज़ार.
  • फूड प्रोसेसिंग सेक्टर 8 फ़ीसदी की रफ्तार से बढ़ रहा है. कृषि प्रोसेसिंग सेक्टर के लिए 1400 करोड़ रुपये.
  • 500 करोड़ रुपये की लागत से ऑपरेशन ग्रीन.
  • किसानों को कर्ज के लिए बजट में 11 लाख करोड़ रुपये का प्रस्ताव
  • 42 मेगा फूड पार्क बनाए जाएंगे. किसान क्रेडिट कार्ड पशुपालकों को भी मिलेगा.
  • विदेशी निवेश में बढ़ावा हुआ है. एक समय था जब भ्रष्टाचार, शिष्टाचार का अंग बन गया है, अब ईमानदारी का चलन बढ़ा है.
  • नोटबंदी के बाद डिज़िटाइजेशन बढ़ा, टैक्स देने वालों का दायरा भी बढ़ा है.
  • मई 2014 के बाद मोदी सरकार के पहले तीन सालों में अर्थव्यवस्था की रफ़्तार साढ़े 7 फ़ीसदी रही है.
  • दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 6.3 प्रतिशत है, जिससे इस साल 20-17-18 में जीडीपी विकास दर 7.2 से 7.5 फ़ीसदी रहने का अनुमान है.
  • भारत 2.5 लाख करोड़ रुपये की अर्थव्यवस्था के साथ दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था.
  • सरकार के लिए सबसे अधिक चुनौती ग्रामीण अर्थव्यवस्था में आ रहे ठहराव को दूर करने की है.

Read This Post on UC News

 

 

Subscribe For Latest Notes

सिविल सेवा नोट्स एंव मार्गदर्शन के लिए अभी Subscribe करे? Hurry UP ! It's Free




error: Content is protected !!