जाने कैसे होती है IAS Officers की Training : Simple Way

अगर आपका सपना IAS बनना है, तो आपको पता होना चाहिए कि UPSC का Exam एंव Interview Clear करने के बाद IAS Training के लिए बुलाया जाता है। यह Training लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक एकेडमी [LBSNAA], मसूरी में कराई जाती है।

IAS Training

एक IAS अधिकारी को Training के दौरान बिताए दिन जिंदगी भर के लिए यादगार बन जाते हैं, क्योंकि मसूरी की सुंदर वादियों को आप कभी भुला नहीं पाएंगे। तो चलिए मसूरी में कराई जाने बाली IAS Training के वारे में विस्तार से जानते है।

IAS Training : पहला चरण

पहले चरण में एक IAS ऑफिसर को 3 Module से होकर गुजरना पड़ता है इसमें कई प्रकार के कठोर Training करायी जाती है।

Module – 1 : Winter Study Tour

* सांस्कृतिक विविधता का अनुभव करने के लिए पूरे देश में यात्रा करते हैं, इसे भारत दर्शन भी कहते हैं।

* भारत की संसदीय प्रणाली कामकाज की जानकारी के लिए 1 सप्ताह का प्रशिक्षण दिया जाता है।

* भारत के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री व अन्य महत्वपूर्ण व्यक्तियों से मिलवाया जाता है।

Module – 2 : Academic Module

* नीति निर्माण, राष्ट्रीय सुरक्षा, कानून व्यवस्था, कृषि/भूमि प्रबंधन, ग्रामीण विकास और पंचायती राज, शहरी प्रबंधन और पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप, ई गवर्नेंस, कार्यालय प्रबंधन प्रशासन में IAS का दृष्टिकोण और भूमिका आदि के बारे में समझाया जाता है।

* Soft Skill, परियोजना प्रबंधन, इंजीनियरिंग ज्ञान और ICIT वित्तीय प्रबंधन और परियोजना मूल्यांकन जैसे कौशल एवं सामाजिक क्षेत्र कमजोर वर्ग और अल्पसंख्यको पर विशेष ध्यान दिया जाता है।

Module – 3 : District Training

* IAS ऑफिसर को एक बर्ष की District Training भी दी जाती है जिससे कि वह अद्भुत विविधताओं, असंख्य चुनौतियां और अवसर को देखने, पढने व जीने में सक्षम बनाने के लिए ड्रील जैसा होता है।

* District Training आपको प्रशासनिक Sat-up को समझाता है और IAS ऑफिसर्स को विकास के प्रतिमान को समझने के साथ-साथ रणनीतियों एंव अन्य लोगों व प्रतिनिधियों अधिकारियों से बात करने का अवसर देता है।

IAS Training : दूसरा चरण

* दूसरे चरण में IAS Officers को अपने अनुभव को साझा करने का मंच प्रदान किया जाता है और देश के प्रशासन को समझने में सक्षम बनाया जाता है।

* इस चरण के दौरान इंटरैक्टिव शिक्षण पद्धति पर विशेष जोर दिया जाता है इसमें सरकार मैं काम करने वाले व सरकार के बाहर काम करने वाले प्रतिष्ठित विशेषज्ञों के सत्र भी आयोजित किए जाते हैं।

* IAS training समाप्त होने से पहले IAS Officers को सरकारी सेवा में अपना Career शुरू करने से पहले सीखने का Option प्रदान करता है।

IAS Training : दिन की शुरुआत एंव अन्य कार्य

* IAS ऑफिसर के दिन की शुरुआत सुबह 6:00 बजे एक घण्टे के अभ्यास ड्रिल के साथ शुरू होती है, अन्य कार्य दिनचर्या के अनुसार किए जाते हैं।

* सभी कार्य दिवसो पर  पहले IAS Officers की कक्षा में 5 से 6 एकेडमी सत्र होते हैं, जिसमें प्रत्येक सत्र 55 मिनट का होता है कक्षा सत्र की शुरुआत सुबह 9:00 बजे होती है।

* शाम के समय में खेल, घुडसबारी और अन्य सांस्कृतिक गतिविधियों के लिए होता है और रात का समय IAS ऑफिसर आपस में बातचीत व अगले दिन के लिए एकेडमी सत्र की तैयारी करते हैं।

* IAS Officers को Training के दौरान एकेडमी आउटडोर कार्यक्रमों पर अधिक जोर दिया जाता है।

* Officers  को ग्रेटर हिमालय पर ट्रैकिंग के लिए भेजा जाता है जिससे कि वह विपरीत परिस्थितियों, खराब मौसम, रहने की अप्रयाप्त सुबिधा और सीमित भोजन जैसी परिस्थितियों को जीना सीखते हैं।

* Officers ग्रामीण जीवन की वास्तविकता को समझने के लिए पिछड़े गांव का दौरा करते हैं।

* IAS ऑफिसर को अपनी पसंद के किसी भी शौक में प्रवीणता करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

* IAS ऑफिसर को अपनी पसंद की एक भाषा को सीखने का भी मौका दिया जाता है।

IAS Training : अवधि

IAS की Training टोटल 21 दिन की होती है –

* 4 महीने की Basic Training ( Foundation Coarse )

* 2 महीने की व्यवसायिक Training

* 12 महीने की District Training

इसके बाद दोबारा मसूरी में 3 महीने की व्यवसायिक Training दी जाती है, फिर इसके बाद कैडर राज्य में Training के लिए भेज दिया जाता है। चयन के 6 से 8 वर्ष बाद ही पूर्ण रुप से जिला कलेक्टर बन पाते हैं।

प्रत्येक IAS Aspirant को IAS Training के वारे में पता होना चाहिए इस लिए ये पोस्ट ज्यादा से ज्यादा Share करे…!!

All the Best…………….!!

3 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *