How to Prepare for IAS Prelims – Hindi Mediem

How to Prepare for IAS

मुझसे Facebook पर कई लोगो ने पूछा कि How to Prepare for IAS Prelims की  तैयारी कैसे करे।  भारतीय इतिहास न सिर्फ सिविल सेवा पाराम्भिक परिक्षा मे वल्कि मुख्य परिक्षा मे भी बहुत अहम है, इसका पाठ्यक्रम का विस्तार भी काफी बडा है। इस लिए पिछ्ले वर्षो के प्रश्न पत्रो को हल करके इसको आसानीसे समझा जा सकता है। प्राराम्भिक परीक्षा में अगर अभ्यर्थि 55 प्रतिशत अंक प्राप्त कर लेता हैं तो वह उसकी तैयारी सही मानी जा सकती हैं। सिविल सेवा प्री में लगभग 15 प्रश्न इतिहास से आते हैं जिनमें 12 आधुनिक भारत से आते हैं। प्राचीन भारत से लगभग प्रश्न एंव मध्यकालीन भारत से एक या दो प्रश्न आते हैं। ये Post पूरी पढने के बाद आपको How to prepare for UPSC exam सवाल का जबाब मिल जायेगा।


How to Prepare for IAS : इतिहास

नीचे दी गई टेविल मे आप देख सकते है कि किस वर्ष सिविल सेवा प्राराम्भिक परिक्षा में इतिहास से कितने प्रश्न पूछे गए है
how-to-prepare-history-for-ias
 
अभ्यर्थि को सबसे ज्यादा फोकस आधुनिक भारत पर करना चाहिए। इसकी तैयारी के लिए पिछले बर्षो के प्रश्न पत्र को ध्यान में रखना बहुत ही महत्बपूर्ण हैं सटिक रणनीति के लिए बिपिन चन्द्र द्वारा लिखित आधुनिक भारत का इतिहास” पुस्तक एंव NCERT की किताबें का उपयोग करे।
NCERT की पुस्तकें निशुल्क Download करनें के लिए क्लिक करें।

प्राचीन भारत के कुछ महत्वपूर्ण भाग 

   ü  वैदिक काल
   ü  तार्म पाषाणिक काल
   ü  महापाषाण काल
   ü  ईरानी व युनानी हमलें
   ü  मोर्य साम्राज्य
   ü  गुप्त काल
   ü  गुप्तोत्तर काल, आदि

मध्यकाल भारत के कुछ महत्वपूर्ण भाग 

   ü  दिल्ली सल्तनत
   ü  मुगल काल
   ü  भक्ति व सूफी धर्म
   ü  आदि

आधुनिक भारत के कुछ महत्वपूर्ण भाग 

   ü  भारत में अंग्रेजी राज्य की स्थापना
   ü  ब्रिटिश शासन के खिलाफ बिद्रोह
   ü  1857 का बिद्रोह
   ü  भारत में राष्ट्रीय आंदोलन (1858-1905)
     जैसे– स्वदेशी आंदोलन, होमरूल आंदोलन, असहयोग आंदोलन, कांग्रेस स्वराज पार्टी, साइमन     कमीशन, सविनय अवज्ञा आंदोलन, भारत छोडो आंदोलन, विभाजन आदि।
   ü  धार्मिक एंव सामाजिक सुधार 1858 के वाद
   ü  ब्रिटिश शासन का आर्थिक प्रभाव

तैयारी के लिए कुछ टिप्स 

  •   प्रारंभिक और मुख्य परिक्षा में दोने में प्राचीन भारत और आधुनिक भारत से पूछे जाने     बाले प्रश्नो की संख्या ज्यादा होती है। इसलिए तैयारी तैयारी के दौरान अभ्यर्थि को इन दोनो टांपिक का अच्छे से अध्ययन करना चाहिए ताकि परिक्षा मे ज्यादा से ज्यादा अंक हासिल कर सके।
  •    अभ्यर्थि को ज्यादा से ज्यादा पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रो को हल करना चाहिए। प्रश्नो के अभ्यास हेतु अभ्यर्थि को प्रश्नपत्र पुस्तिका की सहायता लेनी चाहिए। छात्रो को इससे एक तो प्रश्नो की प्रकृति को समझनेमे मदद मिलती है साथ ही अवधारणा में स्पष्टा आती है।
  •    आधुनिक भारत का वहुत ही गहन अध्ययन करने की आवश्यकता हैं।
  •    भारत के राष्ट्रीय आंदोलन की अच्छे से तैयारी करें।
  •    सबसे जरूरी 1857 .वी के बिद्रोह को नजर अंदाज भूल कर भी न करे।
  •    आधुनिक भारतीय इतिहास मे सर्वाधिक प्रश्न स्वतंत्रता आंदोलन से आते है, इसलिए इसे कभी भी नजर न करे क्योकि इस खंण्ड से आज भी काभी मात्रा मे प्रश्न आते है।
  •    कला एंव संस्कृति से भी सिविलस सेवा प्राराम्भिक परिक्षा मे प्रश्न काभी मात्रा मे पूछे जाते है, इतना ही नही ये खंण्ड मुख्य परिक्षा के लिए भी बहुत अहम हैखासतौर पर स्थापत्य कला, मूर्ति कला, नृत्य– नाटक, संगीत कला, भक्ति दर्शन, भाषा और लिपी इत्यादी।
  •    मध्य कालीन इतिहास से भी अक्सर प्रश्न पूछे जाते है। सिविल सेवा परिक्षा की तैयारी के उपरांत समय रहने पर अगर प्राचीन भारतके कुछ खण्ड– बुध्द, महावीर, हडप्पा सभ्यता, वैदिक सभ्यता, मोर्य काल तथा गुप्तकालीन समाजिक व्यवस्था आदि का अध्ययन करे।
  •    सामाजिकधार्मिक सुधार आंदोलन से भी कई बार प्रश्न आ चुके हैं इसकी तैयारी वहुत ही महत्वपूर्ण हैं।  
  •    तैयारी के दौरान हमेशा उचित अध्ययन सामग्री का अध्ययन करना चाहिए। क्योकि ऐसे सिविल सेवा परिक्षा का सिलेवस इतना अधिक है कि आपको ये ही कवर करना मुस्किल हो जा जाता है इस लिए आप सिर्फ सिलेवस अनुसार पढाई करे।
  •    किसी भी संदेह होने पर सिविल सेवा परिक्षा की तैयारी करने वालो को ये सलाह दी जाती है कि वह किसी भी तरह अफवाह पर ध्यान ना दे। बेहतर यही होगा कि UPSC से पता लगाये।

 

 

How to Prepare for IASभूगोल

सिविल सेवा की तैयारी करने बालो की ये मुस्किल आती है कि How to prepare geography for upsc prelims तो अव आपको चिंता करने की जरुरत नही है। भूगोल खंड जितना महत्वपूर्ण प्राराम्भिक परिक्षा के लिए महत्वपूर्ण है उतना ही मुख्य परिक्षा के लिए भी उतना ही जरूरी है। प्राराम्भिक परिक्षा मे भूगोल अति मह्त्वपूर्ण बिषय है। इससे लगभग 20 से 30 प्रश्न हर बर्ष पूछे जाते है। भूगोल सिविल सेवा की शुरूआत से ही अति मह्त्वपूर्ण बिषय रहा है। क्योकि 2010 पर्यावरण से से प्रश्न पूछे जाते थे, और 2010 के बाद 13 प्रश्न पर्यावरण से आये। अव आप मान सकते है कि ये विषय आपके लिए कितना जरूरी है।
 
इस बिषय के लिए कभी भी शॉर्ट – कट प्रक्रिया न अपनाएं जिससे आप बिषय के आधार भूत को समझने मे कठीनाई आयेगी। इससे सवसे अच्छा परिणाम तव मिलता है कि आप पिछले वर्षो के पेपर को करके देखे और NCERT किताबो का गहन अध्ययन निरंतर करते रहे।
नीचे दी गई टेविल मे आप देख सकतेहै किस वर्ष मे भूगोल से कितने प्रश्न आए है
How to prepare for upsc prelims
 
2010 की सिविल सेवा प्री परिक्षा मे भूगोल से 19 तथा पर्यावरण व परिस्थिकी से 13 प्रश्न पूछे गये थे, जो कि कुल प्रश्न के 32 % भाग है।

«  महत्वपूर्ण तथ्य        »

  •  मानचित्र( भारत व विश्व ) – लगभग 8 से 9 प्रश्न
  • राष्ट्रीय व वैश्विक स्तर की वर्तमान घटनाएं
  • जैव विविधा – 4 से प्रश्न
  • अपवाह तन्त्र – 4 से प्रश्न

«  तैयारी के लिए कुछ जरूरी टिप्स       »  

  • मानचित्र की तैयारी के लिए Oxford Atlas Book वहुत ही महत्वपूर्ण है, इससे भारत व विश्व के सव मानचित्र दर्शाये गए है।
  • भूगोल को मुख्यततीन भागो मे रखा है
        1-   भौतिक भूगोल – जिसमे भारत के भूगोल मे 50 % प्रश्न भौतिक भूगोल से ही आते है।
        2-   आर्थिक भूगोल – इससे लगभग 30 % प्रश्न आते है, आर्थिक भूगोल को कभी नजर अंदाज   न करे।
        3-   सामाजिक – सांस्कृतिक भूगोल से 20 % प्रश्न आते है।
  • विश्व के भूगोल से कभी भी जटिल प्रश्न नही पूछे जाते है, इसमें मानचित्र और भूगोल की वुनियादी अवधारणाओं को समझना बहुत जरूरी है।
  • भारत के भूगोल को गहराई से समझने की आवश्यकता है, इसकी वेहतर तैयारी के लिए पिछ्ले वर्षो के प्रश्न पत्रो को हल करो। इसके साथसाथ एन.सी..आर.टी की किताबें एंव मानचित्र का अध्ययन करना अति आवश्यक है
  • इसकी तैयारी के लिए NCERT की Class 6 से  Class 12 तक की पुस्तके पढना अनिवार्य है।
  • रोज अखवार पढने व टेलीविजन देखने की आदत डाले, क्योकि ज्यादातर प्रश्न समसमायकि पर ही आधारित होते है।
  • अफ्रीका का भूगोल, भारत की नद
    ियां
    , विश्व की प्रमुख जलसंधियो की नविनतम खोज, हरमुज की खाडी आदि के Notes  बनाकार तैयारी करे।

 

How to Prepare for IAS : भारतीय राजव्यवस्था

भारतीय राजव्यवस्था सामान्य अध्ययन प्रश्न– पत्र का वहुत अहम हिस्सा है, इससे 2013 मे 18 प्रश्न पूछे गये थे। अव आप मान सकते है कि 100 प्रश्नो मे 18 प्रश्न सिर्फ़ भारतीय राजव्यवस्था से है तो इसकी तैयारी कैसी होनी चाहिए। इस इस खण्ड से ज्यादातर अभ्यर्ति भारतीय संविधान को वहुत कठीन मान लेते है, कठिन इस लिए माना जाता है क्योकि इसमे अनुच्छेद एंव अनुसूची इतनी है कि इन्हे याद रख पाना मुश्किल काम है।
 
 नीचे दी गई टेविल मे आप देख सकते है कि किस वर्ष सिविल सेवा प्राराम्भिक परिक्षा में राज्यव्यवस्था से कितने प्रश्न पूछे गए है
polity-for-ias-prelims

How to Prepare for IAS : भारतीय अर्थव्यवस्था

How to Prepare IAS

«  भारतीय अर्थव्यवस्था के महत्वपूर्ण तथ्य      »

  •  भारतीय संविधान मौलिक कर्तव्य, शिक्षा का अधिकार आदि )
  • कैंद्र सरकार, राज्य सरकार, स्थानिय सरकार, न्याय पालिका, कैंद्रशासित प्रदेश और विशेष क्षेत्र, संवैधानिक निकाय, गैर – संवैधानिक निकाय, अन्य संवैधानिक आयाम, राजनीति गतिशीलता, आदि।
  • संविधान की कार्य प्रणाली, संविधान निर्माण, संविधान संशोधन।
  • आर्थिक नीति, मौलिक अधिकार, लोकपाल, राइट टू रीकॉल   

«  तैयारी के लिए कुछ टिप्स      »

  •  सर्वप्रथम NCERT की Class-11 से Class-12 की कितावे पढना बुनियादी ज्ञान के लिए बहुत जरूरी है। अर्थव्यवस्था के लिए सिर्फ एकमात्र पुस्तक भारत की राज्यव्यवस्था एम. लक्ष्मीकांत द्वारा लिखित वहुत ही जरूरी है, आपको Market मे हजारो किताबे मिल जायेगी लेकिन आपका सिर्फ एक ही भगबान है एम. लक्ष्मीकांत। भारत की राज्यव्यवस्था किताव मे Appendix को जरूर पढे।
  • संघीय कार्य पालिका एंव संसद वाले उपखण्डो पर ध्यान देने की आवश्यकता है, विगत बर्षो मे इस खण्ड से प्रतिबर्ष 5 प्रश्न पूछे गए है।
  • न्याय पालिका, मौलिक अधिकार एंव नीति निदेशक खण्ड से प्रत्येक बर्ष 1-2 प्रश्न पूछे गए है।
  • राज्य सरकार एंव स्थानिय शासन से 1-2 प्रश्न पूछे गए है।
  • भारतीय राज्यव्यवस्था के अन्य खण्डो को अगर समय मिले तो देख लेना।
  • वर्तमान मे प्रचलित राजनितिक मुददो से संबधित विदुंओ जैसे संविधान संशोधन तथा विभिन्न आयोगो के वारे मे जानकरी रखना अति आवश्यक है।
  • Indian Year Book के कुछ Chapter जैसे कि- Ch- 3, Ch- 20, Ch- 28
  • भारत का संविधान डी.डी वसु द्वारा लिखित किताव बहुत प्रचलित है लेकिन इनमे कुछ नही रखा है, और बहुत सी कितावे है ज्यादा कितावो का डेर लगानेकी कोई जरूरत नही है इसलिए मे Aspirant को Suggest करूंगा कि बह एक बिषय के लिए सिर्फ़ एक ही किताव खरिदे।
  • तथ्य को रटने की बजाय उसकी बिषय शैली को समझे।

«  Currents      »

  •  Bills, Act, Ordinance
  • Right issues, SC Judgments, Government Schemes- Policios
  • Election [ RPA : GS2]
  • The Hindu – National ‘Columns’
  • Prsindia.org  Website बहुत ही उपयोगी है।

 

How to Prepare for IAS : पर्यावरण

How to Prepare IAS

दरअसल यह खण्ड भूगोल, जीव विज्ञान एंव समसमायिकी का मिला जुला रूप है, इसकी तैयारी के लिए समसामयिकी अति मह्त्बपूर्ण है।

पर्यावरण से संबधित विभिन्न बैश्विक संगठनो, राष्ट्रीय व क्षेत्रीय स्तर के सरकारी एंव गैर सरकारी संगठनो, संस्थानो और अधिकार क्षेत्र आदि से भी प्रश्न पूछे जाते है।

वर्तमान मे चल रहे सम्मेलन एंव संधि को नजर अंदाज न करे।

प्रदुषण से संबधित प्रश्न भी पूछे जाते है

राष्ट्रीय एंव अंतराष्ट्रीय स्तर पर प्रदुषण को रोकने के लिए उठाये जाने बाले कदम, प्रदुषण नियंत्रण के महत्वपूर्ण मानक, नियम और कानूनी प्रावधान इत्यादी अति आवश्यक है।

जैव – विविधा एवं मौसम परिवर्तन से संबधित मुद्दे जैसे – जलवायु परिवर्तनके नियंत्रण व विनियमन हेतु पारित महत्वपूर्ण अधिनियम, विभिन्न जीवजंतुओ व वनस्पतियों की विलुप्ति एवं संकट ग्रस्तता, महत्वपूर्ण प्रजातियो के वन्य जीवो की विशेषताएं, आवास एवं उन उनके समझ खतरो आदि की सूची वना लेनी चाहिए।

साथ ही पर्यावरण एवं परिस्थिति से संबधित सरकारी मंत्रालय एवं विभिन्न संस्थाओ की महत्वपूर्ण रिपोर्ट की जानकारी लेते रहे।

How to Prepare for IAS : विज्ञान

How to Prepare IAS

 

ऐसे मे अगर आप इस खण्ड को वैज्ञानिक तरीके से अध्ययन करते है तो आप कम मेहनत मे अच्छी तैयारी कर सकते है।

पिछ्ले बर्षो के प्रश्नपत्रो का विश्लेषण करने के उपरांत ये वात सामने आई की सर्वाधिक प्रश्न इसमे जीव विज्ञान से आते है एवं प्रोधोगिकी से भी प्रश्न पूछे जाते है, रसायन विज्ञान विलकुल नगण्य है।

2015 में 7 सवाल प्रोधोगिकी से आये 2016 मे 3 प्रश्न इस खण्ड से आये है।

वैसे तो प्रोधोगिकी मुख्य परिक्षा के पाठयक्र्म मे शामिल है, खासतौर पर हाल ही मे हुये प्रोधोगिकी विकाश पर ध्यान देना अति आवश्यक है।

अगर देखा जाए तो सर्वाधिक प्रश्न जीव विज्ञान से ही पूछे है इसलिए जीव विज्ञान की तैयारी पर विशेष ध्यान देना आवश्यक है। इसके महत्बपूर्ण भागबनस्पति विज्ञान,आनुवंशिकी, जैव विकाश एवं जैव विविधा तथा जैव प्रोधोगिकी से संबधित अधिक प्रश्न पूछे जाते है।

देखा जाए तो भौतिक विज्ञान से प्रतिबर्ष औसतन 2 प्रश्न पूछे जाते है, अगर पिछले बर्षो के प्रश्नपत्रो की प्रवृति देखे तो इसमे प्रकाश, उष्मा, विदयुत धारा एवं गति आदि आध्यायो से प्रश्न पूछे गए है।

13 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *