IAS-NotesFive Year Plan in India in Hindi
भारत सरकार ने अर्थव्यवस्था के लिए पंचवर्षीय योजना (Five Year Plan in India in Hindi PDF) बनाई, वर्ष 1950 में प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में योजना आयोग की स्थापना की गई इस प्रकार से पंचवर्षीय योजनाएं  (Five Year Plan in India) शुरू हुई।

Five Year Plan in India in Hindi

Five Year Plan in India in Hindi : योजना क्या है

योजना के अंतर्गत किसी देश के संसाधनों का प्रयोग किस प्रकार किया जाना चाहिए ये निर्धारित किया जाता है, भारत में पंचवर्षीय योजना 5 वर्ष की होती है। लेकिन इस योजना में सिर्फ 5 वर्ष के लक्ष्य को ही नहीं बल्कि आगामी 20 वर्षों में प्राप्त किए जाने वाले उद्देश्य को भी उल्लेख किया जाता है।

पंचवर्षीय योजना यह कभी नहीं बताती कि किसी वस्तु और सेवा का कितना उत्पादन किया जाएगा ना तो यह संभव है और ना ही आवश्यक पंचवर्षीय योजना सिर्फ उन्हीं क्षेत्रों के लक्ष्य निर्धारित करें जिनमें उनकी महत्वपूर्ण भूमिका हो जैसे विद्युत उत्पादन और सिंचाई आदि।

पंचवर्षीय योजना के लक्ष्य

किसी भी योजना के कुछ ना कुछ प्रमुख लक्ष्य जरुर होते हैं, इसी प्रकार पंचवर्षीय योजना के मुख्य चार लक्ष्य हैं संवृद्धि, आधुनिकीकरण, आत्मनिर्भरता और समानता।

पंचवर्षीय योजना में लक्ष्य को एक समान महत्व दिया गया है, लेकिन कुछ सीमित संसाधनों के कारण प्रत्येक योजना में ऐसे लक्ष्यों का चयन करना पड़ता है। जिन को प्राथमिकता दी जानी है जहां तक संभव हो चारों लक्ष्यों में से किसी का विरोध नहीं हो रहा हो।

संवृद्धि

इसका अर्थ है कि देश में वस्तुओं और सेवाओं की उत्पादन क्षमता में वृद्धि , उत्पादक कुंजी, परिवहन और बैंकिंग सेवाओं की दक्षता में वृद्धि आदि अगर Simple भाषा में कहा जाए तो सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में निरंतर वृद्धि ही संवृद्धि कहलाता है GDP 1 वर्ष की अवधि में देश में हुए सभी वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन का बाजार मूल्य होता है। प्रत्येक देश की GDP निम्न क्षेत्रों से प्राप्त होती है। कृषि क्षेत्र, औद्योगिक क्षेत्र और सेवा क्षेत्र निम्न क्षेत्रों के योगदान से अर्थव्यवस्था का ढांचा तैयार होता है।

आधुनिकीकरण

आधुनिकीकरण से आशय है कि वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन को बढ़ाने के लिए नई प्रौद्योगिकी को अपनाना जैसे कि किसान पुराने बीजों के स्थान पर नई किस्म के बीजों का प्रयोग कर खेती में अच्छी पैदावार पा सकते हैं। उसी प्रकार किसी फैक्ट्री में नई मशीनों का प्रयोग कर उत्पादन बढ़ाया जा सकता है यह नई प्रौद्योगिकी को अपनाना ही आधुनिकीकरण कहलाता है।

आत्मनिर्भरता

आत्मनिर्भरता से अभिप्राय है कि उन चीजों के आयात से बचा जाए जिनका देश में ही उत्पादन किया जा सकता है। हमारी प्रथम 7 पंचवर्षीय योजनाओं में आत्मनिर्भरता को अधिक महत्व दिया गया है।

समानता

सिर्फ समृद्धि आधुनिकीकरण और आत्मनिर्भरता के द्वारा ही सामाजिक जीवन में सुधार नहीं आ सकता। क्योंकि किसी देश में उच्च समृद्धि दर और विकसित प्रौद्योगिकी का प्रयोग होने के बाद भी अधिकांश लोग गरीब हो सकते हैं तो यह सुनिश्चित करना भी आवश्यक है। कि आर्थिक समृद्धि का लाभ गरीब व्यक्तियों के पास पहुंच रहा है या नहीं क्या यह सिर्फ धनी लोगों तक ही तो सीमित नहीं है। समृद्धि, आधुनिकीकरण और आत्मनिर्भरता के साथ साथ समानता भी महत्वपूर्ण है। प्रत्येक भारतीय को भोजन, अच्छा आवास, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाएं जैसी मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने में समर्थ होना चाहिए।

iasbeginner pdf button

Five Year Plan in India in Hindi PDF से Related किसी सुझाव व सवाल के लिए Comment करे….!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Post comment