Dr. Ujjwal Patni के प्रेरणादायक विचार : पढ़ना न भूले….!

इस लेख में आज हम Dr. Ujjwal Patni Quotes in Hindi पर चर्चा करेंगे , इनके कुछ ऐसे विचार जिन्हे हम अपनी Life में डालेंगे तभी लेखक की मेहनत बसूल होगी , Dr. Ujjwal Patni जी ने कहा है कि यदि आप नहीं बदलना चाहते तो दुनिया का कोई प्रेरक या किताब कुछ नहीं कर सकती |”
Ujjwal Patni
Dr. Ujjwal Patni Quotes for Life in Hindi

यदि आपके जैसा पुत्र होने पर मां बाप अफसोस करें या पत्नी अगले जन्म में किसी दूसरे पतिकी कामना करें तो इसका जिम्मेदार कौन है|

तनाव रहित जीवन की कल्पना अपने आप में दुनिया का सबसे बड़ा तनाव है|

एक इंसान ने कुत्ते को पाला और एक औलाद को, कुत्ते को कुछ नहीं दिया, औलाद को सब कुछ दिया, औलाद असहाय छोड़ कर चली गई, कुत्ता आज भी साथ है|

यदि दूसरों को यह लगा कि आप के समय की कोई कीमत नहीं है तो अगले ही क्षण से बे आप का दुरुपयोग शुरू कर देंगे|

उमंगितऔर प्रसन्नचित नजर आइए क्योंकि दुनिया में कोई भी सुस्त और निरुत्साहित व्यक्ति को साथी नहीं बनाना चाहता|

वाणी संभाल कर बोलिए, ना है हाथ ना है पांव, एक शब्द करे औषधि, एक शब्द करे घाव |

इस संसार में कम बोलने वाले को गंभीर और गरिमामय माना जाता है और ज्यादा बोलने वालों को बातूनी और मुंहफट |

बहस की शुरुआत तो कोई भी मूर्ख कर सकता है परंतु सकारात्मक अंत करने के लिए बेहद बुद्धिमता की जरूरत होती है|

जिंदगी में जो भी आप पाना चाहते हैं, वही बांटिए |

यदि आपका अपमान हो रहा है कोई आपके साथ नहीं रहना चाहता है तो दूसरों को दोष मत दीजिए येआपकी ही करनी का फल है|

आज से प्रेम, सम्मान, श्रेय, क्षमा बांटना शुरु कीजिए देखिए आप की लोकप्रियता का ग्राफ कितनी तेजी से बढ़ता है|

जिस तरह हर रोज शरीर की गंदगी हटाने और तरोताजा रहने के लिए नहाना पड़ता है उसी तरह हर रोज दिमाग की गंदगी हटाने के लिए और नए विचारों को रास्ता देने के लिए पढ़ना पड़ता है|

मुस्कुराते रहो जिंदगी की बाधाएं स्वयं हट जाएंगी |

जो परिस्थितियां आपके नियंत्रण में नहीं हैं उन पर रोना छोड़ दो |

यदि जीवन में लोकप्रिय होना हो तो सबसे ज्यादा आप शब्द का उसके बाद हम शब्द का और सबसे कम में शब्द का उपयोग करना चाहिए |

इगोऔर अहंकारके बीच एक छोटा सा फर्क है, ईगो इंसान को स्वाभिमानी बनाता है और अहंकार इंसान को अभिमानी |

हर चुनौती अपने साथ एक समाधान लेकर आती है|

चुनौतियों से दूर भागकर हारने की वजाय चुनौतियों से जूझो और उस खेल का मजा लो 

जिस प्रकार एक खूंखार कुत्ता पीछे पड़ जाए तो इंसान आश्चर्यजनक तेज गति से दौड़ सकता है उसी तरह अपनी जिंदगी में भी चुनौती डालकर देखो आपके अंदर की छुपी हुई क्षमताएं बाहर आ जाएंगी |

जब भी आप चिंतित हो यह सोचिए क्या समस्या का समाधान मेरे हाथ में है यदि समाधान हाथ में है तो चिंता छोड़ समाधान की ओर बढ़िए और यदि समाधान हाथ में नहीं है तो चिंता का कोई अर्थ नहीं है |

Dr. Ujjwal Patni के यह विचार सिर्फ किताबी नहीं है बल्कि जिंदगी में नई दिशा की ओर ले जाने वाले विचार हैं इन्हें सोशल मीडिया पर जरुर शेयर करें ……..!

 Also Need to Read ‍‍‍~
5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *