IAS in Hindi | Civil Service (सिविल सेवा) : एक परिचय

 IAS in Hindi

IAS in Hindi  के बारे मे जानते है कि आखिर सिविल सेवा परिक्षा की शुरुआत कब और कहां पर हुई। इतिहास- ब्रिटिश काल मे भारतीय प्रशसनिक सेवाएं Indian Civil Service नाम से जानी जाती हैं ये ब्रिटिश भारत सरकार द्वारा दी गयी अभिजात वर्गीय नागरीक सेवाये थी, जो अब बदल कर अल्पकालिक नागरिक सेवाओ के रूप मे उपस्थित है।

IAS in Hindi : स्वतंत्रता – पूर्व की कोलोनियल सिविल सेवा

ईस्ट इंडिया कंपनी के काल मे इन सेवाओ के प्राथी, H.E.I.C.S (सम्मानित ईस्ट इण्डिया नागर सेवक) कहलाते थे। ऊचे पदो पर जो कम्पनी के साथ मे आये, उन्हे Converted सेवक कहते थे। Imperial Civil Service of India का गठन हुआ जो लोक सेवा आयोग UPSC (Union Public Service Commision) 1886-87 की सिफारिश से गठित की गई थी। Imperial Civil Service नाम को Civil Service of India मे बदल दिया गया, किंतु Indian Civil Service पद बना रहा।

IAS in Hindi : अखिल  भारतीय सेवायें 

  1. भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS)
  2. भारतीय पुलिस सेवा (IPS)
  3. भारतीय वन सेबा (IFS)

केन्द्रीय सिबिल सेवाएंसमूह “A”

  • भारतीय विदेश सेवा (IFS)
  • भारतीय राजस्व सेवा (IRS)
  • कैन्द्रिय औधोगिक सुरक्षा वल (CISF)
  • भारतीय ऑडिटस एंव अकाउंटस सेवा (IA & AS)
  • भारतीय रक्षा लेखा सेवा (IDAS)
  • भारतीय रक्षा संपदा सेवा IDES)
  • भारतीय आर्थिक सेवा (IES)
  • भातीय आयुध निर्माणी सेवाएं (IOFS)
  • भारतीय डाक एंव तार लेखा एंव वित्त सेवा (IP & TAFS)
  • भारतीय रेलबे लेखा सेवा (IRAS)
  • भारतीय रेलवे ट्रेफिक सेवा (IRTS)
  • भारतीय सूचना सेवा (ITS)
  • भारतीय रेलवे कार्मिक सेवा (IRPS)
  • रेलबे सुरक्षा बल (RPF)

 

केन्द्रीय सिबिल सेवाएंसमूह “B”

  • कैंद्रिय सचिवालय सेवा
  • रक्षा सचिवालय सेवा
  • संघ शासित प्रदेश पुलिस सेवा

 

ये परिक्षा संघ लोक सेवा आयोग द्वारा बर्ष में एक वार आयोजित की जाती हैं। प्रतिबर्ष UPSC सिबिल सेवा का आयोजन तीन चरणो में करता है।

  1. प्राराम्भिक परीक्षा
  2. मुख्य परीक्षा
  3. साक्षात्कार

साक्षात्कार में सफल Candidate को उसके अंको के आधार पर Post दी जाती है। जैसे- IAS, IPS, IFS तथा अन्य केन्द्रिय सेवाये (Group A व Group B) के लिये चयन किया जाता है। ये देश की सबसे कठीन परीक्षा मे से एक मानी जाती है। इसी लिये इस परीक्षा की तैयारी अनुशासन एंव कठीन मेहनत से करे

Prelims Exam

प्रारांभिक परीक्षा सिबिल सेवा का पहला चरण है इस परीक्षा में प्रतिबर्ष लगभग 4 लाख Candidate Apply करते है। परन्तु 13 से 14 हजार ही Candidate ही मुख्य परीक्षा में भाग ले पाते है।

पहला पेपर – सामान्य अध्ययन

राजनिति शास्त्र, अर्थशास्त्र, भूगोल,  संस्क्रति, इतिहास, बिज्ञान, सामायिक घटनाये इत्यादी

नोट -: इसमे 100 प्रश्न 200 अंको के होते है एंव 2 घंटे का पेपर होता है। कोई भी गलत उत्तर देने 1/3 की कटोती होती है। प्रत्येक प्रश्न 2 अंक का होगा।

दूसरा पेपर – तार्किक क्षमता एंव योग्यता

नोट -: इसमे 80 प्रश्न 200 अंको के होते है एंव 2 घंटे का पेपर होता है कोई भी गलत उत्तर देने पर 1/3 अंक काटे जाते है। प्रत्येक प्रश्न 2.5 अंक का होगा।

नोट – : प्राराम्भिक परीक्षा के अंक मुख्य परीक्षा में नही जुडते है।

Mains Exam

मुख्य परीक्षा सिबिल सेवा का दूसरा चरण है ये चरण अति महत्बपूर्ण है क्यो कि इसमे Candidate के वास्तविक ज्ञान आंका जाता है इसमें केवल 9 पेपर होते है जिनमें से 2 पेपर Compulsory होते है वाकि के 7 पेपर के अंक Merit में जोडे जाते है

 

भाग विषय/प्रश्न पत्र अंक
हिन्दी Compulsory ‌‌———
अंग्रेजी Compulsory ———
निबन्ध ———————————— 250 अंक
सामान्य अध्ययन – 1 भारतीय विरासत एंव संस्क्रति , भूगोल, अन्य 250 अंक
सामान्य अध्ययन – 2 शासन, संविधान, सामाजिक न्याय, अन्य 250 अंक
सामान्य अध्ययन – 3 प्रौधोगिकी, आर्थिक विकास, जैव, अन्य 250 अंक
सामान्य अध्ययन – 4 नैतिकता, अभिरुचि, योग्यता 250 अंक
वैकल्पिक पेपर   – 1 ———————————— 250 अंक
वैकल्पिक पेपर   – 2 ———————————— 250 अंक
टोटल पेपर      – 7  1750 अंक

नोट -: मुख्य परीक्षा में सफल होने के बाद Candidate को Interview के लिये बुलाया जाता है

Interview 

Interview में आपको ज्ञान,आपके विचारो का आत्म परीक्षण होता है Interview के लिये 30 से 35 मिनट का सही समय माना जाता है

नोट ‌-:

  • Interview के लिये कुल अंक 275 निर्धारित है।
  • Interview में आपके आवेदन से जुडी जानकारी पूछी जाती है।
  • आपके वैकल्पिक बिषय के बारे में पूछा जाता है कि आपने यही Subject क्यो चुना।
  • राष्ट्रीय एंव अन्ताराष्ट्रीय घट्नाओ से सवन्धित प्रश्न पूछे जाते है।

 IAS in Hindi से संबधित अन्य किसी सहायता के लिए UPSC की OfficialSite पर जाएं या हमें Comment करे…!!

Tags:
3 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!